Transformer oil name | Types of Transformer oil

electrical interview questions and answers, electrician interview, electrical engineering basics, electrical engineering interview questions and answers, electricel help, electric help, electrical hindi, electrical in hindi, types of transformer oil, transformer oil types pdf, transformer oil name, transformer oil, transformer oil change, transformer oil in hindi, oil name in transformer in hindi, Paraffinic oil, Bio vased transformer oil, Name of Transformer oil, why oil use in transformer, transformer oil ka upyog, transformer oil ka naam kya hai, transformer oil kya hota hai, transformer oil uses in hindi,

इस पोस्ट में हम जानेंगे कि इलेक्ट्रिकल ट्रांसफॉर्मर में जो ऑयल इस्तेमाल किया जाता है वह ऑयल ट्रांसफॉर्मर में क्यों इस्तेमाल किया जाता है। इसके साथ उस आयल का नाम क्या होता है, और क्या हम ट्रांसफार्मर में किसी दूसरे तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं या नहीं ये सब हम इस पोस्ट में जानने वाले हैं।

ट्रांसफार्मर में ऑयल का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

सबसे पहले बात करते हैं ट्रांसफार्मर में आयल का इस्तेमाल क्यों किया जाता है। वैसे तो ट्रांसफार्मर में आयल इस्तेमाल करने के बहुत सारे कारण होते हैं, लेकिन मुख्य कारण ट्रांसफार्मर में जो वाइंडिंग्स होती है उनको गर्म होने से बचाने के लिए ही Transformer oil का इस्तेमाल किया जाता है।

इंसुलेशन प्रदान करना

Transformer oil एक इंसुलेटर का काम भी करता है। यानी कि जो ट्रांसफार्मर होता है उसके अंदर जो वाइंडिंग होती हैं वो बहुत ही नजदीक होती हैं। और नजदीक होने के कारण उनमें स्पार्किंग हो सकती है तो ऐसे में Transformer oil एक इंसुलेटर का काम करता है और वाइंडिंग्स के बीच में आपस में स्पार्किंग होने से बचाता है।

इसके अलावा वाइंडिंग के ऊपर पेपर का इंसुलेशन किया जाता है, और इस Transformer oil के कारण पेपर इंसुलेशन भी जल्दी खराब नहीं होता, उसकी लाइफ भी ज्यादा लंबी बनी रहती है। जब वाइंडिंग को खुली हवा में रखा जाता है तो उनके बीच की दूरी ज्यादा होनी चाहिए। लेकिन अगर ट्रांसफार्मर में Transformer oil डाला जाता है, तो हम ट्रांसफार्मर की वाइंडिंग को पास पास रख सकते हैं जिससे वाइंडिंग में स्पार्किंग होना रुक जाती है।

ट्रांसफार्मर को ठंडा रखना

जैसे कि अभी हमने बताया था ट्रांसफार्मर को ठंडा रखने के लिए भी ट्रांसफॉर्मर ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि आप सब जानते हैं जब ट्रांसफार्मर को ऑपरेशन में लिया जाता है तो धीरे धीरे उसमें थोड़ी सी एनर्जी लॉस होती है, जोकि हीट एनर्जी के रूप में होती है और जिसके कारण ट्रांसफार्मर गर्म हो जाता है।

तो अगर ऐसे में ट्रांसफार्मर में Transformer oil डाला जाता है तो वह ट्रांसफार्मर ट्रांसफार्मर की हीट को अपने अंदर शौख लेगा और सारी हीट ट्रांसफॉर्मर ऑयल से बहती हुई ट्रांसफार्मर में लगी फिन्स की मदद से हवा में चली जाएगी। जिससे ट्रांसफार्मर ठंडा बना रहेगा और ज्यादा गर्म होने की वजह से ट्रांसफार्मर में कोई भी दिक्कत या फाल्ट नहीं आएगा तो ट्रांसफर को ठंडा रखने के लिए भी ट्रांसफॉर्मर ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है।

ये भी पढ़ें:-

ट्रांसफार्मर की सुरक्षा

Transformer oil ट्रांसफार्मर की सुरक्षा भी अच्छे तरीके से करता है। जब भी ट्रांसफार्मर के अंदर कोई भी फाल्ट आता है। तो ट्रांसफॉर्मर ऑयल, गैस में बदल जाता है और यह गैस ट्रांसफार्मर टैंक से बाहर निकलने के लिए भागती है। जिसकी वजह से ट्रांसफार्मर में लगी हुई बक्कलज़ रिले एक्टिवेट हो जाती है और ट्रांसफार्मर बक्कलज़ रिले की मदद से ट्रिप हो जाता है।

कोरोना और अर्किंग को रोकना

किसी भी कारण जब ट्रांसफार्मर में कोई बड़ा फॉल्ट आ जाता है, तो सर्किट ब्रेकर ट्रिप होने से पहले का जो भी समय होता है उसमें हाई करंट फ्लो करने लगता है। और उस हाई करंट के कारण ही ट्रांसफार्मर की वाइंडिंग के ऊपर कोरोना बनने लगता है। अगर ऐसे में ट्रांसफार्मर में Transformer oil होगा तो वह कोरोना और अर्किंग को बनने से रोकेगा जिसके कारण वाइंडिंग जलने से बच जाएगी।

Transformer oil का रंग कैसा होता है?

Transformer oil के रंग की बात करें तो Transformer oil ट्रांसपेरेंट होता है, पानी के जैसा। इसके अलावा आपको बहुत ही हल्के रंग पीले रंग का भी Transformer oil मिल सकता है। लेकिन जैसे-जैसे ट्रांसफॉर्मर ऑयल पुराना होता जाता है तो उसका रंग भी समय के साथ बदलता जाता है। जो रंग पहले हल्का पीला होता है बाद में वो गहरा पीला होता है और ज्यादा पुराना होने के बाद थोड़ा-थोड़ा ब्राउन कलर का हो जाता है और अगर ट्रांसफार्मर में कोई बड़ा फाल्ट हुआ है या फिर Transformer oil बहुत ही ज्यादा पुराना हो गया है तो Transformer oil का रंग डार्क ब्राउन या गाढ़ा भूरा हो जाता है।

Transformer oil को कब बदलें?

डार्क ब्राउन या गाढ़ा भूरा होने के बाद में ट्रांसफार्मर ऑयल को बदल देना चाहिए क्योंकि इतना पुराना होने के बाद ट्रांसफॉर्मर ऑयल की Di Electric Stharenth बहुत ही कम हो जाती है, जिसकी वजह से जिस काम के लिए Transformer oil इस्तेमाल करते हैं वह उन कामों को सही से नहीं कर पाएगा तो ऐसे में ट्रांसफॉर्मर की सेफ्टी को देखते हुए हमें पुराना हो जाने पर Transformer oil को बदल देना चाहिए।

अगर डार्क ब्राउन या गाढ़ा भूरा होने के बाद भी ट्रांसफॉर्मर ऑयल को बदल नहीं जाता है, तो थोड़े दिनों बाद Transformer oil का रंग काला पड़ने लगता है। उसके बाद ट्रांसफार्मर में Transformer oil काला हो जाने के बाद ऐसा हो जाता है कि मानो ट्रांसफार्मर में Transformer oil हो ही नहीं। इस तरह के Transformer oil के साथ ट्रांसफार्मर चलाना ऐसा हो जाता है कि आप बिना Transformer oil के ही ट्रांसफार्मर को चला रहे हैं।

Transformer oil name | ट्रांसफॉर्मर ऑयल का नाम क्या होता है?

Transformer oil के नाम और Types of Transformer oil की बात की जाए तो, ट्रांसफॉर्मर ऑयल को साधारण भाषा में मिनरल ऑयल के नाम से पुकारा जाता है। Transformer oil निम्नलिखित प्रकार के होते हैं:-

  • Paraffinic Oil
  • Naphthenic Oil
  • Bio-Based Transformer Oil
  • Silicone Based Transformer Oil

Paraffinic Oil

Paraffinic Oil का इस्तेमाल ऐसे ट्रांसफार्मर में किया जाता है, जिन ट्रांसफार्मरों की करंट रेटिंग बहुत ही ज्यादा होती है। यानी जो ट्रांसफार्मर हाई करंट के लिए बने होते हैं उनमें Paraffinic Oil का इस्तेमाल किया जाता है।

Naphthenic Oil

Naphthenic Oil का इस्तेमाल ऐसे ट्रांसफार्मर में किया जाता है, जिस ट्रांसफार्मर की करंट रेटिंग कम होती है। यानी काम करंट वाले या छोटे ट्रांसफार्मर में Naphthenic Oil का इस्तेमाल किया जाता है।

Transformer oil ka name Kya h | Types of Transformer oil

Bio-Based Transformer Oil

Bio Based Transformer Oil एक नेचुरल ऑयल होता है। इसकी प्रॉपर्टीज बहुत ही अच्छी होती हैं। इसीलिए ट्रांसफार्मर में यह बहुत ही अच्छे और लंबे समय तक बिना खराब हुए काम कर सकता है। लेकिन इसकी कीमत बहुत ही ज्यादा होती है, इसीलिए Bio Based Transformer Oil इस्तेमाल खदान जैसी जगह पे लगे ट्रांसफार्मर में ही किया जाता है।

Silicone Based Transformer Oil

Silicone Based Transformer Oil की बात की जाए तो इसका इस्तेमाल पहले के जमाने में बहुत ज्यादा किया जाता था। आज इसका इस्तेमाल लगभग बंद ही हो चुका है। क्योंकि पुराना होने के बाद यह एक जहरीला पदार्थ बन जाता है। और Silicone Based Transformer Oil खराब होने के बाद जो जहरीले पदार्थ बचता है, उसको फेंका कहां पर जाये इसकी बड़ी दिक्कत रहती थी। तो इसी कारण से आज के समय में Silicone Based Transformer Oil का इस्तेमाल बंद किया जा चुका है।

तो ये थे वो Transformer Oil जो हम ट्रांसफॉर्मर में इस्तेमाल करते हैं। इनमे जो पहले दो Transformer Oil है जोकि, Paraffinic Oil और Naphthenic Oil हैं, इनको मिनरल ऑयल कहते हैं क्योंकि इनको क्रूड ऑयल से बनाया जाता है। आजकल इनका ही इस्तेमाल ज्यादा किया जाता है। बाकी दो के बारे में हमने आपको बता दिया कीमत ज्यादा होने की वजह से और जहरीले पदार्थ का निपटारा कैसे किया जाए इससे बचने के लिए Bio Based Transformer Oil और Silicone Based Transformer Oil का इस्तेमाल बहुत ही कम या फिर यूं कहें बिल्कुल ही बंद किया जा चुका है।

ट्रांसफार्मर में किसी और तरह के ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं?

बात की जाए कि हम ट्रांसफार्मर में किसी और तरह के ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं? तो इसका जवाब है बिल्कुल नहीं। जो Transformer Oil अभी हमने आपको यहां पर बताए हैं हम इन्हीं Transformer Oil का इस्तेमाल ट्रांसफार्मर में कर सकते हैं। क्योंकि ट्रांसफॉर्मर ऑयल के लिए हमें जो प्रॉपर्टी चाहिए, वह हमें इन Transformer Oil में ही मिलती है। बाकी किसी भी आयल में हमें यह सारी प्रॉपर्टी नहीं मिलती है।

यह थी हमारी पोस्ट Transformer Oil के बारे में आपको पसंद आई हो तो आप इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं, इसके अलावा इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिंदी में देखना चाहते हैं तो आप हमारे युटुब चैनल को भी सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Room Heater with Overheating Protection, best room heater, room heater, best room heater in india, best room heater for winter,
USHA 800-Watt Quartz Room Heater with Overheating Protection

Rate this post
Previous articleMaintenance Meaning in Hindi | Types of Maintenance in Hindi
Next articleइन्वर्टर बैटरी में पानी डालने का तरीका | lead acid battery maintenance

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here