बैटरी पर C10 और C20 क्या होता है? What is the c10 and c20 on the battery?

5/5 - (1 vote)

बिजली जाने के बाद में घरों में उपकरणों को चलाने के लिए बैकअप के लिए बैटरी का इस्तेमाल किया जाता है। इसीलिए बैटरी का सही चुनाव किया जाए ये बहुत ही जरूरी हो जाता है, ताकि हमें सही बैटरी बैकअप मिल सके और बैटरी खरीदने में आपके जो पैसे लगे हैं वो खराब ना जाएं। अगर आप जानकारी के बिना ही बैटरी खरीद लेते हैं तो बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इसीलिए बैटरी खरीदते समय बहुत सारी छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखना जरूरी हो जाता है जिससे आपको सही बैटरी खरीदने में मदद मिलती है।

वैसे तो बैटरी बैकअप बढ़ाने के लिए 1-2 बैटरी ज्यादा इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन ऐसे में अगर आप गलत बैटरी खरीद लेते हैं तो दो बैटरी ज्यादा लगाने पे भी उतना बैकअप नहीं मिल पायेगा। इसीलिए बैटरी खरीदते समय उसके ऊपर लिखी सारी डिटेल को अच्छे से पढ़ें। साथी ही आपको कितनी देर के लिए बैकअप चाहिए, कितना लोड चलाना है ये सब जानकारी आपको पहले से ही पता होनी चाहिए तभी आप सही बैटरी का चुनाव कर सकते हैं।

 

जब भी हम बैटरी खरीदने जाते हैं तो बैटरी की Ah वैल्यू बताकर ही बैटरी खरीदने हैं जैसे हमें 20AH की बैटरी चाहिए या 100 AH या फिर 150 AH की बैटरी चाहिए। अब यहां AH का मतलब Amp. Hours होता है। हालांकि बैटरी का बैकअप इसकी AH वैल्यू पे ही निर्भर करता है। लेकिन आजकल मार्केट में सोलर बैटरी भी आ रही हैं। उनपे आपको बैटरी की रेटिंग C10 या C20 देखने को मिलेता है, जो इनके चार्जिंग और डिस्चार्ज करंट की वैल्यू को Fix कर देती है।

जैसे अगर आपने 150AH की एक बैटरी खरीदी है एयर उसपे C10 लिखा हुआ है। तो बैटरी की AH वैल्यू को 10 से भाग करें,

150/10 = 15A

ऐसा करने से 15A निकल के आता है। और अगर आप 150Ah C20 रेटिंग की बैटरी खरीदते हो, तो इसका चार्जिंग डिस्चार्ज करंट 150/20 = 7.5A होगा। और जैसा कि पहले बताया था 150AH C10 पे आपको 15A चार्जिंग और डिसचार्जिंग करंट की वैल्यू मिलती है। यानी अगर इस बैटरी को 15A करंट से चार्ज और डिस्चार्ज करते हैं तभी ये बैटरी 150AH जितना बैटरी बैकअप देगी और चार्जिंग के लिए जो इसका निर्धारित समय है उतने ही समय में यह चार्ज हो सकेगी।

ये भी पढ़ें:-

अगर आप 15A करंट से कम पे चार्ज करेंगे तो इसको चार्ज होने में बहुत ज्यादा समय लगेगा। वैसे इसमें ज्यादा बड़ी कोई दिक्कत नहीं होती है कि बैटरी चार्ज होने में ज्यादा समय लगेगा लेकिन अगर आप इसे 15A करंट से ज्यादा का लोड देखे इस्तेमाल करेंगे तो यह बैटरी अपना बैकअप कम कर देती है। अगर 15A का लोड देने से 10 घंटे का बैकअप देती है, ऐसे में अगर इस पर 20A का लोड चलाया जाए तो यह मुश्किल से 4 घंटे का ही बैकअप देगी।

C10 और C20 में कौनसी बैटरी बढ़िया है

C10 और C20 इन दोनों बैटरी में से एक बैटरी का चुनाव आपको करना हो और ज्यादा लोड चलाना है तो आप C10 बैटरी खरीदें और कम लोड चलाना है तो आप C20 वाली बैटरी खरीद सकते हैं। और अगर आप चाहते हैं के उनको सोलर पैनल से भी जोड़ा जाए तो ऐसे में आपको C10 वाली बैटरी ही खरीदनी चाहिए।

इन सबके लिए आपको सिर्फ इस बात का ध्यान रखना है कि आपको बैटरी पे कितना करंट डालना है। इसके लिए सबसे जरूरी जो है वो आपको लोड का पता होना चाहिए कि आपको कितना ज्यादा आप लोड डालना हैं, ताकि आप सही रेटिंग की बैटरी खरीद सकें। अगर आपको ये नहीं पता कि आपका लोड कितना है, तो आपको हमेशा ज्यादा AH की बैटरी खरीदनी चाहिए, जैसे कि 200Ah C10, इस बैटरी के साथ आप 20A तक का लोड जोड़ सकते हैं। इससे अगर आप एक समय पर ज्यादा लोड भी चला देते हैं तो बैटरी पर इसका कोई ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा। जिससे बैटरी सही से काम करती रहेगी।

अगर आपकी जरूरत ये है कि कम लोड को ज्यादा देर तक चलाया जाए तो भी आपको ज्यादा AH की बैटरी का चुनाव चाहिए। और अगर आप कम लोड को थोड़ी बहुत देर तक चलाना चाहते हैं तो आप 100 से 120 AH तक की बैटरी में भी आपका काम चल जाएगा।

ऐसी जगह जहां पे बिजली बहुत कम समय आती हो, जैसे कि ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्र यहां पे दिन के समय में 4 से 5 घंटे ही मुश्किल से बिजली आती है। ऐसी जगहों पे ज्यादा बैटरी बैकअप की जरूरत पड़ती है और साथ ही बैटरी को भी जल्दी से चार्ज करना होता है। तो ज्यादा करंट देखे बैटरी को जल्दी चार्ज कर सकते हैं, लेकिन यहां फिर से ज्यादा करंट का मतलब वही हो जाता है कि बैटरी खराब हो सकती है। ऐसे में जो निर्धारित करंट है उतना करंट बैटरी को देना पड़ेगा। इसके लिए सोलर पैनल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। क्योंकि दिन में बिजली सिर्फ 4 से 5 घंटे ही आएगी तो उसमें बैटरी फुल चार्ज नहीं हो पाएगी। और ना ही ज्यादा देर तक बैकअप मिले पायेगा।

सोलर पैनल का भी इस्तेमाल करने से आपकी बैटरी दिन के समय में धीरे-धीरे डिस्चार्ज होगी। अगर बड़े सोलर पैनल लगा दिए जाएं तो बैटरी डिस्चार्ज होगी ही नहीं होगी बल्कि सोलर पैनल से ही चार्ज हो जाएगी और जिसके कारण बिजली का बिल भी कम आएगा।

इसीलिए सोलर बैटरी के ऊपर C10 लिखा हुआ होता है अगर आप नार्मल बैटरी देखेंगे तो उस पर C10 लिखा नहीं मिलेगा।

उम्मीद है ये पोस्ट पढ़ के आपको पता चल गया होगा कि C10 और C20 क्या होता है।

     

Previous articleDiesel Generator क्या है | Diesel Generator के पार्ट्स और उनकी वर्किंग क्या है।
Next articleतार और केबल क्या होती है और इनमे क्या क्या अंतर होता है

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here