Fire Bucket क्या होती है? Fire Bucket का इस्तेमाल कहां किया जाता है?

5/5 - (1 vote)

आज की इस पोस्ट में  हम आपको Fire Bucket के बारे में बताएंगे Fire Bucket क्या होती है, Fire Bucket का इस्तेमाल कहां किया जाता है। आपने बहुत जगह लाल रंग की बाल्टीयों को लटकते हुए देखा होगा और उनको देखकर आपके मन में यह सवाल आया होगा कि आखिर यह क्या होती हैं, या फिर आप से कहीं ना कहीं इंटरव्यू में भी Fire Bucket के बारे में पूछा गया होगा। तो इन्हीं सब सवालों के जवाब जानने के लिए हमारे इस पोस्ट को शुरू से लेकर लास्ट तक पूरा पढ़ें और इसकी पूरी जानकारी ले।

जब भी बात Fire and Safety की आती है तो हर कोई सबसे पहले Fire Fighting Equipment और Fire Extinguisher आदि इन सब चीजों का जिक्र करता है, लेकिन Fire Bucket के बारे में आपको बहुत ही कम सुनने को मिलता है। अक्सर देखा गया है जब बड़े बड़े अधिकारी या फिर फायरमैन कहीं पर आग लगने पर या फिर वैसे इंस्पेक्शन के लिए आते हैं तो वह भी Fire Bucket का कभी कभार ही जिक्र करते हैं।

एक तरीके से देखा जाए तो हम Fire Bucket को सबसे अच्छा Fire Extinguisher भी कह सकते हैं। क्योंकि अगर यह खाली हो जाए तो हमें इसको रिफिलिंग कराने की जरूरत नही पड़ती, हम साधारण रेत का इस्तेमाल इसको रिफिलिंग करने के लिए कर सकते हैं। इसकी कोई एक्सपायरी डेट नही होती है, ना ही कोई हाइड्रोलिक या कोई और अन्य टेस्ट करने की जरूरत होती। साथ ही Fire Bucket बहुत ही सस्ता भी पड़ता है, और इसको हम कहीं पर कभी भी इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर लगा सकते हैं।

फायदा

सबसे पहले आपके मन में यह सवाल आता होगा कि जब हम A, B, ABC आदि प्रकार के Fire Extinguisher का इस्तेमाल करते हैं तो हमें Fire Bucket की जरूरत क्यों पड़ती है।

तो इसके लिए आपको बता दें जब कोई भी आग लगने का हादसा होता है तो वह हमें कुछ भी सोचने का थोड़ा सा भी मौका नहीं देता। तो ऐसे में आप सब जानते हैं कि आग अलग अलग तरह की होती हैं, तो उनके लिए अलग-अलग तरह के Fire Extinguisher का इस्तेमाल किया जाता है। तो ऐसे में जब आग लगती है तो एकदम से भगदड़ शुरू हो जाती है और सबसे पहली प्रायरिटी आग को बुझाने की होती है।

तो ऐसे में हो सकता है वहां पर कोई ट्रेनिंग किया हुआ या ट्रेंड फायरमैन या फायर फाइटर ना हो। तो ऐसे में कोई अनजान आदमी किसी गलत था या फिर दूसरे प्रकार  के Fire Extinguisher का इस्तेमाल करता है, तो वहां पर आग बुझ नहीं पाएगी और सकता उससे और ज्यादा भड़क जाए। तो ऐसे मे  बिना कुछ सोचे समझे बड़ी जल्दी से ही हमें आग बुझानी होती है, तो ऐसे में हम Fire Bucket का इस्तेमाल किसी भी तरह की आग पर तुरंत इस्तेमाल कर सकते हैं।

तो यह एक सबसे बड़ा फायदा होता है Fire Bucket के इस्तेमाल करने का। साथ ही जैसा कि हमने पहले आपको अभी बताया था कि इसको ना तो रिफीलिंग कराने की जरूरत होती, ना इस के एक्सपायर होने का खतरा होता। तो यह कुछ ऐसे फायदे होते हैं जिसकी वजह से हम Fire Bucket का इस्तेमाल करते हैं।

Fire Bucket के अंदर जैसा कि हमने अभी बताया था इसमें रेत का इस्तेमाल होता है जब भी कहीं आग लगती है तो आप Fire Bucket को उठाकर उसको सीधा आग के ऊपर फेंक सकते हैं और आग को बुझा सकते हैं। यह बिल्कुल ही सीधा, सरल और आसान सा तरीका है आपको बुझाने का।

आपने पेट्रोल पंप या कहीं और देखा होगा एक लाल लाल रंग की बाल्टी होती है, जिसके अंदर रेत भरा हुआ होता है, आग किसी भी प्रकार की हो जैसे कि Electrical Fire, A Type, B टाइप, C Type आदि किसी भी प्रकार की कोई भी आग हो आप सीधा Fire Bucket को उठाकर उसके ऊपर रेत फेंक के आग बुझा सकते हो। इस प्रकार से Fire Bucket से आग बुझाना एक बहुत ही अच्छा तरीका है, जिसके लिए कोई विशेष ट्रेनिंग या कोर्स की जरूरत भी नहीं पड़ती।

जैसा कि आप जानते होंगे Fire Extinguisher को चलाने के लिए हमें पहले उसको चलाना आना चाहिए, यानी कि हमें उसकी टेस्टिंग और ट्रेनिंग की जरूरत पड़ती है। साथ ही अगर Fire Extinguisher को सही से इस्तेमाल ना किया जाए तो Fire Extinguisher नुकसान भी पहुंचा सकता है। कई बार Fire Extinguisher धोखा भी दे देते हैं, यानी कि जब आग लगती है और हम Fire Extinguisher का इस्तेमाल करते हैं तो वह चलते ही नहीं है। Fire Bucket के साथ ऐसा नहीं है यह कभी भी धोखा नहीं दे सकता बशर्ते यह खाली ना हो। Fire Bucket खाली हो तो भी हम इसके अंदर साधारण रेत डालकर सीधा आग के ऊपर फेंक सकते हैं।

Fire Bucket कि बनावट

अब बात करते हैं हम इसके डिजाइन की बारे में, जैसे कि आप अपने घर के अंदर देखते होंगे वहां पर बकेट नीचे से बिल्कुल फ्लैट होती है, और उसको हम जमीन पर आसानी से रख सकते हैं, लेकिन Fire Bucket ऐसी नहीं होती। वह नीचे से पूरी तरह से गोल होती है अगर हम उसको जमीन पर रखेंगे तो वह तुरंत लुढ़क जाएगी।

इसका ऐसा डिजाइन इसीलिए बनाया जाता है ताकि हम Fire Bucket का इस्तेमाल किसी और काम में ना कर सके। इसी कारण उसको उसके स्टैंड पर या फिर दीवार पर उसके हैंगर लगाकर Fire Bucket को टांगा जाता है।

Fire Bucket का रंग

अब बात करें इसके रंग की तो Fire Bucket के अंदर का जो रंग होता है, वह सफेद होना चाहिए और जो बाहर का रंग होता है वह लाल होना चाहिए। अब इसमें दो हैंडल भी दिए होते हैं, एक हैंडल जोकि मुख्य हैंडल होता है इसी हैंडल कि मदद से Fire Bucket को स्टैंड पे लटकाया जाता है। और दूसरा हैंडल होता जिसको पकड़कर हम आग के ऊपर रेत को फेंक के मारते हैं, इन दोनों के रंग की बात की जाए तो यह दोनों ब्लैक यानि काले के होनी चाहिए।

आपने देखा होगा Fire Bucket के ऊपर ‘FIRE’ और ‘आग’ शब्द भी लिखा होता है, ये शब्द सफेद पेंट से ही लिखे होने चाहिए और इसके आकार की बात की जाए तो इसका आकार 75 mm का होना चाहिए साथ ही उसको आधा इंची के लगभग यानि 12 mm मोटा भी होना चाहिए।

तो यह कुछ ऐसी चीजें थी जिन को ध्यान में रखकर ही Fire Bucket का को बनाया जाता है

Fire Bucket का इस्तेमाल कहां कहां किया जाता है

Fire Bucket का इस्तेमाल या फिर इसको आप ऐसी जगह पर लगा सकते हो जहां पर तेल में आग लगने का खतरा हो या फिर गैस से आग लगने का खतरा हो, जैसे कि जहां छोटे-मोटे सिलेंडर रखे हों आप वहां पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

या फिर उसको आप वहां पर लगा सकते हैं जहां बिजली की आग लग सकती है। सीधा सीधा बोला जाए तो आप हर जगह पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसको लगाने के लिए आपको एक स्टैंड लगाना होता है और उस स्टैंड में इन Fire Bucket को लटकाया जाता है  ताकि जब भी कोई आग लग जाए तो आसानी से Fire Bucket का इस्तेमाल करके आग को बुझाया जा सके।

फायर में रखते हुए आपको एक चीज का और सबसे ज्यादा ध्यान रखना होता है यह नहीं कि आप कहीं पर भी Fire Bucket को रख दें, ऐसा नहीं होता। जैसा कि आप जानते हैं Fire Bucket के अंदर रेत होता है तो ऐसे में हमें Fire Bucket को पानी से बचाने की जरूरत पड़ती है।

अगर Fire Bucket के अंदर पानी चला गया तो रेत ठोस बन सकता है। तो ऐसे में जब भी हमें आग लगने पे Fire Bucket की जरूरत पड़ेगी, तो Fire Bucket काम नहीं करेगी। ऐसे में Fire Bucket को वहाँ लगाना चाहिए जहां उसके ऊपर कोई सैड या छत लगी हो।

अगर हम खुले में Fire Bucket लगाना चाहते हैं तो उसके स्टैंड के साथ ही उसके ऊपर हमें छोटी फाइबर की सीट या फिर लोहे की सीट किसी भी चीज का इस्तेमाल कर सकते हैं ताकि आने वाली बारिश या किसी भी तरह के पानी से Fire Bucket को बचाया जा सके।

साथ ही आजकल आपने देखा होगा हर जगह लोग गुटखा, पान मसाला खाकर इधर-उधर थूकते रहते हैं, तो हमें इस चीज का भी ध्यान रखना पड़ता है कि कोई उसके अंदर गुटखा, पान मसाला खाकर उसके अंदर थूके नही या कोई और कूड़ा कचरा भी उसके अंदर ना जाए। यह भी एक फायरमैन या फायर फाइटर की जिम्मेदारी है कि समय-समय पर Fire Bucket का रखरखाव करता रहे और समय-समय पर चेक करता रहे कि इसमें कोई कचरा तो नहीं पड़ा हुआ है।

Fire Bucket की मेंटेनेंस

बाकी सभी उपकरणों की तरह हमें Fire Bucket का भी मेंटेनेंस करना पड़ता है। इसके लिए हमें कम से कम महीने में एक बार Fire Bucket का इंस्पेक्शन करना चाहिए। Fire Bucket सही है या नही, उसमें पानी या कोई कचरा तो नहीं गया है।

सबसे पहले हमें इसके रेत को चेक करना है कि यह रेत जम तो नहीं गया है। पानी जाने के कारण अगर रेत जम गया है तो हमें किसी नुकीली चीज के साथ जमे हुए रेत को फिर से पहले जैसी स्थिति में लेकर आना पड़ता है।

साथ ही हमें यह भी देखना होता है कि Fire Bucket में कहीं जंग तो नहीं लगा हुआ है। बहुत बार Fire Bucket में जंग लगने के कारण खास तौर पर उसकी निचली सतह पर जंग लग जाता है।

और जब आप उसका इस्तेमाल करते हैं तो जंग लगने के कारण नीचे से उसका हिस्सा कमजोर हो जाता है और वह नीचे निकल जाता है। जिससे सारा रेत नीचे ही गिर जाता है, और आग पर कुछ भी नहीं गिरता। जिससे आग नहीं बुझ पाती है। तो इसका भी आपको विशेष तौर से ध्यान रखना होता है।

अगर आपको Fire Bucket में जंग लगा हुआ मिलता है तो आप उसको हटाकर उसको पेंट कर सकते हो। अगर Fire Bucket हल्का-फुल्का डैमेज है तो आप उस पर वेल्डिंग करके फिर उस पर पेंट कर सकते हो। अगर आपकी Fire Bucket जंग लगने के कारण ज्यादा डैमेज हो चुकी है तो फिर आप उसको बादल दें यही सबसे बेहतर उपाय है।

Read More:-

साथ ही जितने भी अन्य उपकरण होते हैं, जैसे उनके ऊपर चेक लिस्ट लगाई जाती है कि इस उपकरण का मेंटेनेंस आखरी बार कब किया था, इसमें क्या क्या दिक्कत मिली थी, यह सब के रिकॉर्ड रखने के लिए हमें चेक लिस्ट भी एक लगानी चाहिए जिससे हमें आसानी से पता चलता है कि मेंटेनेंस हो रही है या नहीं हो रही।

तो यह थी कुछ ऐसी बातें तो यह थी Fire Bucket के बारे में आपको जानना और सीखना बहुत ही जरूरी था। उम्मीद है आपको हमारी जानकारी पसंद आई होगी। अगर पसंद आई हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कर सकते हो ताकि कभी इमरजेंसी में उनको भी इस चीज से फायदा मिल सके।

अगर आप  फायर एंड सेफ्टी या फिर इलेक्ट्रिकल से जुड़े हुए दूसरे आर्टिकल पढ़ना चाहते हैं तो हमारी वेबसाइट पे पढ़ सकते हैं। साथ ही अगर इनसे जुड़े हुए आप वीडियो देखना चाहते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं 

Our Affiliate Links…………

Previous articleSwitchgear क्या होते हैं? Switchgear के प्रकार और उपयोग क्या-क्या होते हैं?
Next articleRPM और Torque में क्या अंतर है? | Difference Between Torque and RPM

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here