What is CT & PT | What is CT & PT in Hindi | CT & PT kya hote hai

5/5 - (1 vote)

What is CT & PT | What is CT & PT in Hindi | CT & PT kya hote hai

What is CT & PT | What is CT & PT in Hindi | CT & PT kya hote hai

Current Transformer (CT)

Current Transformers (CT)

Current transformer सामान्य तौर पे current के high magnitude को नापने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। ये step down transformers होते हैं, जोकि current को सामान्य ammeter के द्वारा दिखाते हैं। एक Current transformer में primary winding के सिर्फ एक या फिर बहुत ही काम घुमाव होते हैं। primary winding सिर्फ एक मुख्य conductor या फिर bus bar ही होती है, जिसे core से निकल जाता है। बात करें secondary winding की तो इसमे बहुत ज्यादा turns होते हैं। इस प्रकार से देखा जाए तो current transformer voltage को steps up करता है और current को step down.
अब इसके बाद secondary current AC ammeter के द्वारा माप जाता है। transformer का turns ratio ये होता है

👉 NP / NS = IS / IP


current transformer के सबसे आम उदहारण की बात करे तो हम ‘Digital Clamp Meter’ का उदाहरण ले सकते हैं। सामान्य तौर पे, current transformers इनके primary से secondary current अनुपात को लेके जाने जाते हैं।एक 100:5 अनुपात वाले CT का मतलब हुआ जा इसकी secondary का current 5A दिख रहा होगा तब इसकी primary का current 100A होगा। CT के secondary current की rating सामान्यत 5A or 1A, जोकि standard measuring instruments ले साथ compatible है।

Potential Transformer (PT)

Potential transformers यानी PT voltage transformers के ना। से भी जाने जाते हैं। और ये step down transformers होते हैं, जिनका turns ratio बहुत ही accurate होता है। Potential transformers वोल्टेज को ईद स्तर तक स्टेप डाउन करते है जहाँ हम वोल्टेज को साधारण measuring instrument से मैप सकें। PT में primary turns बहुत ही ज्यादा होते हैं, और secondary turns बहुत ही काम यानी के कुछ गिनती के ही होते हैं। एक potential transformer इसके primary से secondary voltage अनुपात को लेके जाना जाता है, जैसेकि 600:120 अनुपात वाले PT का मतलब ये हुआ इसकी secondary पे 120V हो तब primary पे 600V होगा।

उम्मीद है आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई होगी। आप अपने विचार कमेंट बॉक्स में हमारे साथ शेयर कर सकते हो। और हमारी पोस्ट सीधा अपने इनबॉक्स में पाने के लिए हमे email से सब्सक्राइब कर सकते हो।

Previous articleसबस्टेशन में ट्रांसफार्मर को पैरलल में क्यों जोड़ते हैं?
Next articleDifference Between HVAC and HVDC Power Transmission

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here