इलेक्ट्रिकल पावर सिस्टम में CT और PT क्यों इस्तेमाल किये जाते हैं?

Rate this post

Why potential transformers and current transformers are used in power systems? | इलेक्ट्रिकल पावर सिस्टम में CT और PT क्यों इस्तेमाल किये जाते हैं

हेलो दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि जो हमारे पावर लाइन होती है उसमें potential transformers और current transformers का इस्तेमाल क्यों किया जाता है आपने कभी पावर लाइन, ट्रांसफार्मर या फिर पैनल आपने देखे होंगे वहां पर आपको potential transformers और current transformers दिख जाते हैं तो उनको देखकर आपके मन में यही सवाल आता होगा कि Why potential transformers and current transformers are used in power system? | इलेक्ट्रिकल पावर लाइन में CT और PT क्यों इस्तेमाल किये जाते हैं। तो इस पोस्ट को शुरू से लेकर लास्ट तक पूरा पढ़िए इसमें आपको आपके सारे सवालों के जवाब मिल जाएंगे।
Protective relays और measuring instruments जैसे कि voltmeter, wattmeter और energy meter ये सब बहुत संवेदनशील उपकरण हैं जो high magnitudes वाली इलेक्ट्रिकल लाइन से सीधे नहीं जोड़ सकते। इसलिए, हमें इलेक्ट्रिकल लाइन के magnitude को इतना नीचे लाना होता है या यूं कहें इसको उस स्तर तक Step Down करना पड़ता जिस स्तर पे measuring instruments जैसे कि voltmeter, wattmeter और energy meter ये सब काम कर सकें। इस उद्देश्य के लिए, potential transformers (PT) का उपयोग किया जाता है।
potential transformers (PT) की Primary Winding इलेक्ट्रिकल लाइन के साथ समानांतर जुड़ी हुई होती है और Protective relays और measuring instruments जैसे कि voltmeter, wattmeter और energy meter ये सब potential transformers (PT) की Secondary winding के साथ जुड़े हुए होते हैं। potential transformers (PT) एक तरह से step down ट्रांसफार्मर होता है।
अब Current Transformar (CT) की बात करें तो उसका इस्तेमाल करने का कारण भी यही है। लेकिन जहां potential transformers (PT) Protective relays और measuring instruments जैसे कि voltmeter, wattmeter और energy meter के आपरेशन में काम आता है तो वहीं Current Transformar (CT) high magnitudes वाली इलेक्ट्रिकल लाइन के डेटा या यूं कहें करंट को मापने (measuring) में सहायता प्रदान करता है।
इसकी Primary Winding इलेक्ट्रिकल लाइन के साथ सीरीज में जुड़ी होती है लेकिन आज कुछ ऐसे प्रकार के Current Transformar (CT) आते है जिसमे इलेक्ट्रिकल लाइन यानी Live Conductor को ही Primary Winding बना दिया जाता है और जिसको Current Transformar (CT) के बीच से निकाला जाता है। Current Transformar (CT) की Secondary winding के साथ measuring instrument जैसे Ammeter जुड़े हुए होते हैं। Current Transformar (CT) एक stup down ट्रांसफॉर्मर होता है।
Protective relays और measuring instruments जैसे कि voltmeter, wattmeter और energy meter इस सब instrument के द्वारा ली गयी रीडिंग या डेटा वास्तविक मूल्य (actual value) के अनुपात में ही होंगे और उपयोग किए गए potential transformers (PT) और Current Transformar (CT) अनुपात (ratio) पर निर्भर करते हैं।
 

 

 

तो दोस्तो उम्मीद है आज आपके Why potential transformers and current transformers are used in power system? | इलेक्ट्रिकल पावर लाइन में CT और PT क्यों इस्तेमाल किये जाते हैं से जुड़े कई सवालो के जवाब मिल गए होंगे। अगर आपके अभी भी कोई सवाल Electrical Engieering से जुड़े है, तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताये।
साथ ही इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करके उनकी भी मदद करें। इलेक्ट्रिकल हेल्प (Electrical Help) से जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। 🙂
अगर आप इलेक्ट्रिकल की वीडियो हिन्दी मे देखना पसन्द करते है, तो आप हमारे YouTube Channel इलेक्ट्रिकल हेल्प (Electrical Help) को जरूर विजिट करे।
यह भी देखें – 
Previous articleTransformer के Input पे DC Voltage लगाने पर क्या होगा?
Next articleइलेक्ट्रिकल ट्रांसफॉर्मर के प्रकार | Types of Electrical Transformers

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here